Advocate kaise Bane। How to become an Advocate?

दोस्तों हर किसी के जीवन में एक सपना होता है की वह पढ़ लिखकर एक सफ़ल इंसान बनें और अपना नाम रोशन करे अब ऐसे में कुछ लोग इंजीनियर बनना चाहते हैं तो कुछ लोग डॉक्टर बनाना चाहते हैं, तो वहीं कुछ लोगों का इंटरेस्ट LAW फील्ड में होता है और वे Advocate (अधिवक्ता) बनना चाहते हैं।

Advocate kaise bane
Advocate kaise bane

लेकिन उन्हें पता नहीं होता कि Advocate कैसे बनें?, Law की पढाई के लिए LLB का कोर्स कैसे करें?, 12th के बाद LLB कैसे करें?, ग्रेजुएशन के बाद LLB कैसे करें और Advocate बनने के लिए क्या करना होता है? हम आपको इस आर्टिकल में Advocate kaise bane? इसकी पूरी जानकारी देने की कोशिश करेंगे, तो अगर आप Advocate (अधिवक्ता) बनने के बारे में सोच रहे हैं तो आपको इस आर्टिकल को पूरा पढ़ने की जरूरत है।

    LLB Kya Hai । What is LLB Course?

    यह एक बैचलर डिग्री कोर्स है LL.B का Full Form '' (Bachelor of Laws/Legum Baccalaureus)" है हिंदी में LLB का मतलब " कानून का स्नातक " कहते है। अगर आप LAW में अपना करियर बनाना चाहते हैं, तो LLB Course आपके लिए एक बेहतर विकल्प है  LLB Course में आपको कानून के बारे में अच्छे से पढ़ाया जाता है LLB Course की पढाई करने के बाद आप एक Lawyer (वकील) बन जाते हैं उसके बाद आप चाहें तो कोर्ट में जज भी बन सकते हैं। 

    LLB ka Course kaise kare। LLB Course in Hindi

    दोस्तों अगर आप जानना चाहते है की LLB ka Course kaise kare तो LLB Course को दो तरीकों से किया जाता है अगर आप LLB Course After 12th करते हैं तो उसे 5 साल का इंटीग्रेटेड लॉ प्रोग्राम बोला जाता है और यदि आप LLB Course After Graduation करते हैं तो उसे 3 साल का LLB प्रोग्राम बोला जाता है।

    12th ke baad LLB kaise kare

    दोस्तों अगर आप सोच रहे हैं की 12th ke baad LLB kaise kare तो उसके लिए आपको 12वीं किसी भी स्ट्रीम से पास करना होगा और जब आप 12th पास कर लेते हैं तो आप 5 साल का इंटीग्रेटेड लॉ प्रोग्राम जैसे BA-LLB, B.Com-LLB, BBA-LLB, B.Sc-LLB आदि कोर्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं इन सभी कोर्स को करने के लिए 12वीं में आपके मार्क कम से कम 50% जरूर होने चाहिए।

    LAW के कोर्स में एडमिशन के लिए ज्यादातर कॉलेज प्रवेश परीक्षा कराते हैं तो कुछ कॉलेज में मेरिट के आधार पर डायरेक्ट एडमिशन लेते हैं 12th ke baad LAW कोर्स में एडमिशन के लिए CLAT, AILET, LSAT, SET, LAWCET, CEE आदि प्रवेश परीक्षा आयोजित किये जाते हैं, तो यदि आप LAW Course की पढाई किसी प्रसिद्ध कॉलेज से करना चाहते हैं तो आपको प्रवेश परीक्षा को पास करना होगा और परीक्षा को पास करने के बाद आप LAW Course में एडमिशन ले सकतें हैं।

    Graduation ke baad LLB kaise kare

    दोस्तों अगर अपने अपना ग्रेजुएशन पूरा कर लिया है और आप सोच रहे हैं की Graduation ke baad LLB kaise kare तो उसके लिए आपको ग्रेजुएशन किसी भी स्ट्रीम से पास करना होगा और आपके मार्क्स कम से कम 45% जरूर होने चाहिए और जब आप ग्रेजुएशन पास कर लेते हैं तब आप 3 साल के LLB प्रोग्राम को किसी भी प्राईवेट या गवर्नमेंट कॉलेज से अपनी पढाई पूरी कर सकते हैं।

    LAW के कोर्स में एडमिशन के लिए ज्यादातर कॉलेज प्रवेश परीक्षा कराते हैं तो कुछ कॉलेज में मेरिट के आधार पर डायरेक्ट एडमिशन लेते हैं Graduation ke baad LAW कोर्स में एडमिशन के लिए DU LLB, BHU UET, LSAT, PU LLB, CEE आदि प्रवेश परीक्षा आयोजित किये जाते हैं, तो यदि आप LAW Course की पढाई किसी प्रसिद्ध कॉलेज से करना चाहते हैं तो आपको प्रवेश परीक्षा को पास करना होगा और परीक्षा को पास करने के बाद आप LAW Course में एडमिशन ले सकतें हैं।  

    LLB Course Details in hindi

    Advocate Kaise Bane। How to become an Advocate?

    दोस्तों आपने यह जान लिया है कि LLB क्या है? और इसे कैसे करते हैं और अपने यह भी जाना कि 12th के बाद LLB कैसे करें?, ग्रेजुएशन के बाद LLB कैसे करें? Advocate kaise bane? यह जानने से पहले यह जानते हैं की Lawyer (वकील) किसे कहते हैं? और Advocate (अधिवक्ता) किसे कहते हैं? फिर उसके बाद हम जानेगें की Advocate (अधिवक्ता) बनने के लिए कौन-कौन से स्टेप को फॉलो करना होता है। 

    Lawyer (वकील) किसे कहते हैं?

    एक Lawyer (वकील) वह व्यक्ति होता है जिसने LAW की पढाई की हो यानि LAW में ग्रेजुएशन किया हो, तो हर वह व्यक्ति जिसके पास LAW की डिग्री हो चाहे उसने 3 साल का LLB Course किया हो या 5 साल का LLB Course यानि हर वह व्यक्त जिसने LAW में ग्रेजुएशन किया हो, तो वह Lawyer (वकील) बन जाता है।  

    एक Lawyer (वकील) होने से आप किसी क्लाइंट को कोर्ट में रिप्रेजेंट नहीं कर सकते और न ही उनके केसेस कोर्ट में लड़ सकते हैं। 

    Advocate (अधिवक्ता) किसे कहते हैं?

    Advocate (अधिवक्ता) यानि ऐसा व्यक्त जो किसी दूसरे व्यक्त का पक्ष ले सकता है और उसके पक्ष से बात कर सकता है, तो जब एक Lawyer (वकील) बार कौंसिल ऑफ़ इंडिया का परीक्षा पास कर लेता है उसके बाद वह Advocate (अधिवक्ता) बन जाता है।

    जब आप LAW में ग्रेजुएट हो जाते है तो फिर तो फिर उसके बाद आपको स्टेट बार कौंसिल में अपने आप को एनरोल करना होता है और जब आप स्टेट बार कौंसिल में एनरोल कर लेते हैं तो फिर उसके बाद आपको All India Bar Examnation परीक्षा को पास करना होता है इस परीक्षा को बार कौंसिल ऑफ़ इंडिया द्वारा कंडक्ट कराया जाता है। इस परीक्षा को पास करने के बाद आपको प्रैक्टिस करने का सर्टिफिकेट मिलेगा और आप Lawyer (वकील) से प्रमोट होकर Advocate (अधिवक्ता) बन जायेंगे।

    तो जब भी कोई व्यक्त अपने आप को Advocate (अधिवक्ता) बताता है, तो इसका मतलब यह हुआ की उसके पास प्रैक्टिस करने का लाइसेंस है और वह लोगों को कोर्ट में रिप्रेजेंट कर सकता है और उनके केसेस भी लड़ सकता है।   

    Advocate Kaise Bane

    जो Lawyer (वकील) होता है उसके पास केवल LAW की डिग्री होती है वह कोर्ट में केसेस नहीं लड़ सकता है, तो वहीं जो Advocate (अधिवक्ता) होता है वह बार कौंसिल में एनरोल होता है और उसके पास कोर्ट में प्रैक्टिस करने का लाइसेंस होता है। Advocate kaise bane? Advocate (अधिवक्ता) बनने के निम्नलिखित स्टेप हैं-

    1. 12th की पढाई पूरी करे- 

    वकालत की पढाई करने के  लिए आपको 12वीं किसी भी स्ट्रीम से पास करना होगा और 12वीं में आपके मार्क्स कम से कम 50% जरूर होने चाहिए यदि आप चाहें तो 12वीं में आर्ट्स सब्जेक्ट ले सकतें हैं क्यूंकि आर्ट्स में कुछ हद तक LAW से सम्बंधित चीजों के बारे में पढ़ाया जाता है। 

    2.12th की पढाई करने के बाद CLAT Exam के लिए अप्लाई करें- 

    CLAT का Full Form Common Law Admission Test है यह एक नेशनल लेवल का परीक्षा है जोकि ऑफलाइन होता है यह परीक्षा उन लोगों के लिए कंडक्ट किया जाता है जो लोग अंडर ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट LAW प्रोग्राम में एडमिशन लेना चाहते हैं। CLAT परीक्षा में अप्लाई करने के लिए आपको 12वीं पास करना होगा। 12वीं में आपके मार्क्स जनरल और OBC केटेगरी के लिए कम से कम 45% लाना जरुरी है जबकि SC और ST केटेगरी के लिए 40% होने चाहिए। 

    3. LAW में ग्रेजुएशन के बाद इंटर्नशिप करें-

    जब आप LLB Course की पढाई पूरा कर लेते हैं तो आप ग्रेजुएट हो जाते है उसके बाद वकालत के बारे में प्रैक्टिकल नॉलेज के लिए आपको इंटर्नशिप करना होता है इंटर्नशिप करते वक्त आपको कोर्ट कचहरी के बारे में सब कुछ सिखाया जाता है जैसे की एफिडेबिड कैसे बनाया जाता है?, ड्राफ्टिंग कैसे करते हैं?, कोर्ट में वकील नामा कैसे लिखते है?, कोर्ट की हियरिंग कैसे होती है?, जजमेंट कैसे लिखा जाता है, जजमेंट कैसे पढ़ा जाता है? आदि चीजों के बारे में जानकारी लेना होता है।  

    4. स्टेट बार कौंसिल से एनरोलमेन्ट-

    इंटर्नशिप करने के बाद आपको स्टेट बार कौंसिल में अपने आप को एनरोल करना है और जब आप स्टेट बार कौंसिल में एनरोल कर लेते हैं तो उसके बाद आपको AIBE(All India Bar Examnation) परीक्षा को पास करना होता है इस परीक्षा को बार कौंसिल ऑफ़ इंडिया द्वारा कंडक्ट कराया जाता है और जब आप इस परीक्षा को पास कर लेते हैं उसके बाद आपको प्रैक्टिस करने का सर्टिफिकेट मिलता है जिसके बाद आप पुरे भारत में कहीं भी प्रैक्टिस कर सकते हैं। इस तरह से आप Advocate (अधिवक्ता) बन जाते हैं। 

    Advocate kaise bane

    Conclusion 

    इस आर्टिकल में आपने यह जाना कि Advocate कैसे बनें?, Law की पढाई के लिए LLB का कोर्स कैसे करें?, 12th के बाद LLB कैसे करें?, ग्रेजुएशन के बाद LLB कैसे करें और Advocate बनने के लिए क्या करना होता है? हमने इस आर्टिकल में आपको Advocate Kaise Bane? इससे संबंधित पूरी जानकारी देने की कोशिश की है, लेकिन अगर आपको इस आर्टिकल में कोई ऐसी कमी देखें जिसे हमने मेंशन ना किए हो पर करना चाहिए था तो आप कमेंट सेक्शन में अपना सुझाव दे सकते हैं।

    इसे भी पढ़ें-

    टिप्पणियाँ

    संपर्क फ़ॉर्म

    भेजें