Computer Engineer Kaise Bane

दोस्तों जीवन में एक सफल व्यक्ति बनना हर किसी के बस की बात नहीं है, लेकिन नामुंकिन कुछ भी नहीं अगर आप मेहनत और लगन के साथ कुछ बनना चाहते है तो आपको कोई भी रोक नहीं सकता है। आजकल के समय में टेक्नोलॉजी बहुत तेजी से बढ़ती जा रही है। 

दिन प्रतिदिन कंप्यूटर और मोबाइल का इस्तेमाल काफी ज्यादा बढ़ रहा है और इनके अंदर सबसे ज्यादा इंटरनेट का इस्तेमाल किया जाता है इंटरनेट के आने से पहले काफी सारे ऐसे काम थे जिनको करने में कई दिन लग जाते थे और अब वही सारे काम इंटरनेट के जरिये काफी जल्दी किये जा सकते है। 

Computer Engineer Kaise Bane
Computer Engineer Kaise Bane

अब ऐसे में कुछ लोगों का इंट्रेस्ट इंजीनियरिंग फील्ड में होता है और वे इसी फील्ड में अपना करियर बनाना चाहते है, लेकिन इंजीनियरिंग की पढाई में भी कई सारे अलग-अलग इंजीनियरिंग कोर्स होते हैं किसी का इंट्रेस्ट सिविल इंजीनियर में किसी का इंट्रेस्ट सॉफ्टवेयर इंजीनियर में और कुछ लोगों का इंट्रेस्ट कंप्यूटर इंजीनियरिंग में होता है। 

तो अगर आप एक कंप्यूटर इंजीनियर बनना चाहते है तो आज के इस आर्टिकल में हम आपको Computer Engineer Kaise Bane इसकी पूरी जानकारी देने की कोशिश करेंगे तो यदि आप कंप्यूटर इंजीनियर कैसे बनें इसके बारे में जानना चाहते हैं तो आपको इस आर्टिकल को पूरा पढ़नेकी  की जरुरत है हमने इस आर्टिकल में आपको कंप्यूटर इंजीनियर कैसे बनें इसकी पूरी जानकारी देने की कोशिश की है। कंप्यूटर इंजीनियर कैसे बनें यह जानने से पहले यह जानते हैं की कंप्यूटर साइंस क्या है? 

    कंप्यूटर साइंस क्या है?

    कंप्यूटर की बेसिक चीजें और इसके उपयोग के अध्ययन या पढाई को कंप्यूटर साइंस कहा जाता है कंप्यूटर साइंस के अंतर्गत कंप्यूटर से जुड़े उपकरणों के बारें में अध्ययन करवाया जाता है इस फील्ड में सॉफ्टवेयर और सॉफ्टवेयर बनाने के प्रोसेस के ऊपर ज्यादा फोकस किया जाता है। 

    कंप्यूटर साइंस में इलेक्ट्रिकल और कंप्यूटर इंजीनियरिंग के बिलकुल विपरीत काम करने के तरीके होते हैं इसमें केवल कंप्यूटर के सॉफ्टवेयर सिस्टम से जुड़े कार्य किये जाते हैं कंप्यूटर दो चीजों से जुड़कर बनाया गया है हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर कंप्यूटर इन दोनों के मिलाने पर ही काम करता है। 

    कंप्यूटर इंजीनियरिंग में सभी तरह के हार्डवेयर के हिस्सों के बारें में पढ़ाया जाता है और कंप्यूटर साइंस के अंतर्गत सिस्टम सॉफ्टवेयर, मल्टीमीडिया एप्लीकेशन, डिजिटल एलेक्ट्रॉऑनिक्स, डेटाबेस सिस्टम, कंप्यूटर नेटवर्किंग आदि के बारें में पढ़ाया जाता है। 

    कंप्यूटर साइंस में सॉफ्टवेयर के अलावां अल्गोरिथम थ्योरी, लॉजिक डाटा स्ट्रक्चर और प्रोग्रामिंग लैंग्वेज जैसे विषय भी शामिल होते है कंप्यूटर साइंस में अध्ययन करने के प्रमुख क्षेत्र है Artificial Intelegant, Networking, Database, Human Computer Introducation, Software Engineering, Vision and Graphic और कंप्यूटर थ्योरी तो ये सभी अलग अलग फील्ड हैं जिसमें छात्र अपने रूचि के हिसाब से सब्जेक्ट को चुन कर पढाई कर सकतें है। 

    कंप्यूटर साइंस की डिग्री हासिल करने के बाद एक छात्र कोड बना सकता है प्रोग्राम को लिख सकते है प्रॉब्लम सॉल्विंग अल्गोरिथम बना सकते हैं जिससे की वे ये पता करते हैं की एक कंप्यूटर सिस्टम क्या-क्या कर सकता है और क्या नहीं कर सकता है कंप्यूटर वैज्ञानिक कुछ नया खोजने का प्रयास करते रहते हैं। 

    वे कंप्यूटर के द्वारा नई चीजें करवाने या कार्यों को अधिक कुशलता से करने के लिए सॉफ्टवेयर बनाते हैं वेबसाइट बनाते हैं और सॉफ्टवेयर प्रोग्राम भी विकसित करतें हैं आजकल के समय में हर काम कंप्यूटर पर ही किया जा रहा है जिसके वजय से इन्हे सभांलने के लिए लोगों की डिमांड भी बढ़ती जा रही है। इसलिए इस फील्ड में बेहतर करियर के ऑप्शन मैजूद हैं जिसमें करियर बनाया जा सकता है।

    Computer Engineer Kaise Bane

    कंप्यूटर इंजीनियरिंग एक इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग और कंप्यूटर साइंस का संयोजन होता है जिसका फोकस कंप्यूटर के हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर पार्ट को डिजाइन करने में इस्तेमाल किया जाता है तो यदि आपको कोई कंप्यूटर बनाना है तो ऐसे में आपको इलेक्ट्रीकल और कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग का ज्ञान होना बहुत जरुरी है।

    कंप्यूटर दो चीजों से मिलकर बनता है एक सॉफ्टवेयर और दूसरा हार्डवेयर पार्ट तो आपको कंप्यूटर इंजीनियर बनने के लिए इन दोनों में से किसी भी एक में स्पेशलाइजेशन कर सकते हैं।

    सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में आपको सॉफ्टवेयर डेवेलोप करना होता है एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर को सॉफ्टवेयर को बनाना डिजाइन करना और टेस्ट करना होता है सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में आपको एप्लीकेशन और सॉफ्टवेयर बनाने के लिए कोड लिखना होता है। 

    हार्डवेयर इंजीनियरिंग में आपको कंप्यूटर के सभी तरह के पार्ट्स जैसे कि माउस, कीबोर्ड, सीपीयू और मदरबोर्ड आदि के बारें में रिसर्च करना, डिजाइन करना, डेवेलोप करना और टेस्ट करना आदि काम होता है। 

    कंप्यूटर इंजीनियर बनने के लिए योग्यता क्या है?

    यदि आपको कंप्यूटर इंजीनियर बनना है चाहे वो सॉफ्टवेयर में हो या हार्डवेयर में तो उसके लिए आपको 12वीं पास करना होगा साइंस सब्जेक्ट से और आपके पास 12वीं में मैथ सब्जेक्ट होना बहुत जरुरी है इसके अलावा आपका 12वीं में कम से कम 60% मार्क्स तो होना ही चाहिए। 

    जैसे ही आप 12वीं पास कर लेंगे उसके बाद कंप्यूटर इंजीनियर बनने के लिए प्रवेश परीक्षा के लिए अप्लाई करने होंगे और कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग जिसे हम CS भी कहते हैं उस सब्जेक्ट को चुनना होगा और इस परीक्षा को क्लियर करना होगा तभी आपको कॉलेज में एडमिशन मिलेगा जहाँ से आप कंप्यूटर इंजीनियरिंग की पढाई पूरी कर सकते हैं।

    नीचे कुछ प्रवेश परीक्षा के बारें में बताया गया है इन परीक्षा को पूरा करने के बाद आप कंप्यूटर इंजीनियरिंग की पढाई पूरी कर सकते हैं -

    • BITSAT
    • Goa Common Entrance Test(CET)
    • Orissa Joint Entrance Exam (JEE)
    • COMEDK Undergraduate Entrance Test
    • Kerala Law Entrance Examination (KLEE)
    • All India Engineering Entrance Exams (AIEEE
    • Delhi University Combined Entrance Examination
    • Indian Institute of Technology Joint Entrance Exam (IIT JEE)
    • EAMCET (Engineering, Agriculture, and Medicine Common Entrance Test), etc.

    और जैसे ही आप प्रवेश परीक्षा को क्लियर कर लेंगें उसके बाद बाद आपको कॉलेज में एडमिशन के लिए काउंसलिंग करनी होगी जिसमें आपके मार्क्स यानि रैंक के हिसाब से कॉलेज दिया जाता है तो जितने अच्छे आपके मार्क्स होंगे उतना ही बढ़िया आपको कॉलेज मिलेगा। 

    जब आप प्रवेश परीक्षा को क्लियर कर लेंगे इसके बाद कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग कोर्सेस में एडमिशन ले सकते हैं और अपनी कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग की पढाई को पूरा कर सकते हैं यह कोर्स पूरे 4 साल का होता है यानि आपको 4 साल तक पढाई करनी होगी। 

    कंप्यूटर इंजीनियर बनने के लिए और जैसे ही आप कंप्यूटर इंजीनियरिंग की पढाई को पूरा कर लेंगें उसके बाद आप एक कंप्यूटर इंजीनियर कहलायेंगे इसके बाद अगर आप कंप्यूटर में मास्टर डिग्री करना चाहते हैं तो MCA, M.Tech जैसे कोर्सेस के लिए प्रवेश परीक्षा देना होगा और परीक्षा को क्लियर करने के बाद इन कोर्सेस में एडमिशन ले सकते हैं। 

    Top Computer Science Programs 

    दोस्तों आज के आधुनिक युग में टेक्नोलॉजी बहुत तेजी से बढ़ता जा रहा है इसलिए आज के समय में टेक्निकल चीजों के बारें जानकारी होना बहुत जरुरी हो गया है, तो यदि आपका इंट्रेस्ट कंप्यूटर साइंस फील्ड में और आप उसी से सम्बंधित चीजों के बारें में जानना चाहते है, तो नीचे कुछ Top Computer Science Programs कोर्सेस के बारें में बताया गया आप इन कोर्सेस के लिए अप्लाई कर सकतें है। 

    computer engineer kaise bane

    B Tech कंप्यूटर साइंस कोर्स क्या है? 

    B Tech कंप्यूटर साइंस अंडरग्रेजुएट लेवल का प्रोफ़ेशनल इंजीनियरिंग प्रोग्राम है जिसमें क्लास 12वीं में साइंस स्ट्रीम होने पर ही आपको मिल सकता है B Tech कंप्यूटर साइंस कंप्यूटर और टेक्नोलॉजी का फील्ड है जिसमें प्रोग्रामिंग और सॉफ्टवेयर कंप्यूटर की डिटेल स्टडी इंक्लूड होती है जिसमें आपको कंप्यूटर सॉफ्टवेयर और कंप्यूटर हार्डवेयर के बारें जानकारी मिलता है। 

    B Tech कंप्यूटर साइंस का पूरा नाम Bachelor of Technology in Computer Science है जोकि पुरे 4 साल का होता है B Tech कंप्यूटर साइंस कोर्स में आपको अल्गोरिथ्म्स, प्रोग्रामिंग लैंग्वेज, प्रोग्रामिंग डिज़ाइन, कंप्यूटर हार्डवेयर, कंप्यूटर सॉफ्टवेयर, कंप्यूटर नेटवर्क, इंटरनेट वेब प्रोग्रामिंग, आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस, कंप्यूटर ग्राफ़िक विजुलाइजेशन और ऑपरेटिंग सिस्टम आदि के बारें में विस्तृत जानकारी दिया जाता है। 

    B Tech कंप्यूटर साइंस कोर्स में एडमिशन के लिए 12वीं में कम से कम 60% मार्क्स होने चाहिए और आप और आप 12वीं में Physics, Chemestry, Mathematics सब्जेक्ट से पास होने चाहिए B Tech कंप्यूटर साइंस कोर्स में एडमिशन के लिए IMU CET, JEE Mains, JEE Advance और LPU NEST आदि एंट्रेंस टेस्ट लिए जाते हैं।

    B Tech कंप्यूटर साइंस से ग्रेजुएट होने के बाद स्टूडेंट कंप्यूटर प्रोग्रामर, सॉफ्टवेयर डेवलपर, सॉफ्टवेयर डिज़ाइनर, रिसर्च एनालिस्ट, कंप्यूटर ऑपरेटर और सिस्टम डिज़ाइनर जैसे पद पर काम कर सकतें हैं। 

    BCA कोर्स क्या है?

    BCA प्रोफेशनल डिग्री कोर्स है जिसका पूरा नाम " Bachelor of Computer Application " है यह 3 साल का अंडरग्रेजुएट डिग्री कोर्स है जो Informational Technology में करियर शुरू करने के लिए बहुत ही फेमस कोर्स है क्यूंकि IT इंडस्ट्री में BCA ग्रेजुएट की काफी डिमांड होती है इस कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आपके पास 12वीं क्लास में English और Mathematics सब्जेक्ट होना बहुत जरुरी है। 

    ऐसे स्टूडेंट्स जो Computer Language के बारे में जानना चाहते हैं उनके लिए BCA  Course एक बहुत अच्छा ऑप्शन है BCA Course में आपको कंप्यूटर एप्लीकेशन और कंप्यूटर साइंस से संबंधित चीजों के बारे में पढ़ाया जाता है इसमें Database Management Systems, Operating Systems, Software Engineering, Web Technology, Programming languages जैसे कि C,C++, Java, HTML इत्यादि के बारे में पढ़ाया जाता है BCA Course को करने के बाद आपको कंप्यूटर फील्ड से संबंधित चीजों के बारे में बेहतर नॉलेज हो जाता है। 

    इस कोर्स को करने के बाद आपको प्राइवेट और पब्लिक सेक्टर में बहुत सी Job Opportunities मिल सकेगी BCA ग्रेजुएट System Engineer, Software Developer, Software Tester, Web Developer और Junior Programmer जैसे पद पर काम कर सकतें हैं और एक BCA ग्रेजुएट को मिलने वाली एवरेज सैलरी साल का 3 से 5 लाख तक हो सकता है।

    BSC CS कोर्स क्या है?

    BSC कंप्यूटर साइंस ओरिएंटेड कोर्स है जिसे करने से कंप्यूटर साइंस में स्ट्रांग अकैडमिक फाउंडेशन तैयार किया जा सकता है यह 3 साल का अंडरग्रेजुएट डिग्री प्रोग्राम है जिसका पूरा नाम Bachelor of Science in Computer Science है जो कंप्यूटर साइंस, कंप्यूटर एप्लीकेशन और इसके सर्विसेस से रीलेटेड टॉपिक्स और सब्जेक्ट से डील करता है। 

    BSC कंप्यूटर साइंस कोर्स में आपको Introduction to Digital Electronics, Basics of Computer Science, Operating Systems Concept, Database Management Systems, Introduction to Computer Network, Introduction to Data Structures और Systems Programming आदि के बारें में विस्तृत जानकारी दिया जाता है। 

    BSC कंप्यूटर साइंस कोर्स में ज्यादातर कॉलेज मेरिट बेस्ड पर दिया करते हैं जबकि कुछ कॉलेजेस में प्रवेश परीक्षा के बेस पर ही एडमिशन लिया जा सकता है BSC कंप्यूटर साइंस कोर्स में एडमिशन के लिए CUCET और BHU UET एंट्रेंस टेस्ट लिया जाता है। 

    BSC कंप्यूटर साइंस कोर्स में एडमिशन के लिए आपका 12वीं में कम से कम 50% मार्क्स से पास होना चाहिए और इस कोर्स में एडमिशन के लिए आपके पास 12वीं में Physics, Chemistry और Mathematics सब्जेक्ट होना बहुत जरुरी है और यदि आप चाहें तो 11वीं और 12वीं में कंप्यूटर साइंस सब्जेक्ट चुन सकते हैं। 

    BSC कंप्यूटर साइंस से ग्रेजुएट होने के बाद स्टूडेंट सिस्टम इंजीनियर, सॉफ्टवेयर इंजीनियर, सॉफ्टवेयर डेवलपर कंप्यूटर हार्डवेयर, कंप्यूटर ओपेरटर आदि जैसे पद पर काम कर सकतें है और यदि आप कंप्यूटर साइंस में मास्टर डिग्री करना चाहते हैं तो आप M.Sc in Computer Science कोर्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं। 

    Computer Science Engineering in Polytechnic

    आज के दुनिया में कुछ अलग करना एडवांस और प्रैक्टिकल नॉलेज लेना बहुत जरुरी हो गया है ताकि पढाई पूरा होते ही जॉब मिलने के अवसर बढ़ सके अब ऐसे में कुछ स्टूडेंट्स कंप्यूटर साइंस से डिप्लोमा कोर्स की पढाई करने की सोचते हैं। 

    पॉलिटेक्निक डिप्लोमा कोर्स एक टेक्निकल कोर्स है यह कोर्स ऐसे स्टूडेंट्स के लिए बेस्ट ऑप्शन है जो टेक्निकल फील्ड में अपना करियर बनाना चाहते हैं, तो वे पॉलिटेक्निक Diploma in Computer Science and Engineering कोर्स के लिए अप्लाई कर सकतें हैं। 

    पॉलिटेक्निक डिप्लोमा कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग कोर्स को शार्ट में DCSE भी कहा जाता है जिसका पूरा नाम Diploma in Computer Science and Engineering है इस कोर्स को करने के बाद आप सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट में अपना करियर शुरू कर सकतें है Computer Science Engineering in Polytechnic एक डिप्लोमा बेस्ड कोर्स है जिसे पूरा करने में 2 से 3 साल का समय लगता है। 

    इस कोर्स में स्टूडेंट्स को कंप्यूटर प्रोग्रामिंग लैंग्वेजेस जैसे की C++, C#, HTML और Java Script के फंडामेंटल नॉलेज दिया जाता है और साथ ही इससे रीलेडेड बाकी ऑब्जेक्ट की थ्योरी और प्रैक्टिकल नॉलेज भी मिलते हैं DCSE(Diploma in Computer Science and Engineering) कोर्स पॉलिटेक्निक के अन्य प्रशिद्ध कोर्सेस की तरह टेक्निकल नॉलेज प्रोवाइड करता है। 

    इस कोर्स में एडमिशन के लिए आपको 10वीं क्लास पास करना जरुरी है यानि आप 10वीं, 12वीं या ITI पास करने के बाद इस कोर्स में एडमिशन ले सकतें हैं और आपके मार्क्स े इन क्लास में कम से कम 35% से 50% जरूर होना चाहिए। 

    यह एक कॉम्पिटिटिव कोर्स है जिससे बहुत से टॉप संस्था अकैडमिक परफॉर्मेंस के बेस पर ही एडमिशन देते है इसलिए स्कूल लेवल पर अपना स्ट्रांग स्कोर तैयार करें जिससे आपको अच्छे कॉलेज में एडमिशन मिल सके और आप अपनी पढाई पूरी कर सकें। 

    computer engineer kaise bane

    Top Computer Science Colleges in India

    • IIT Madras
    • IIT Roorkee
    • IIT Guwahati
    • IIT Hyderabad
    • IIT Delhi
    • IIT Kanpur
    • IIT Kharagpur
    • IIT Bombay
    • IIT Indore
    • National Institute of Technology, Tiruchirappalli (NIT Trichy)

    Conclusion-

    इस आर्टिकल में आपने यह जाना कि Computer Engineer Kaise Bane हमने इस आर्टिकल में कंप्यूटर इंजीनियर कैसे बनें इसकी पूरी जानकारी देने की कोशिश की है, लेकिन अगर आपको इस आर्टिकल में कोई ऐसी कमी देखें जिसे हमने मेंशन ना किए हो पर करना चाहिए था तो आप कमेंट सेक्शन में अपना सुझाव दे सकते हैं।

    इसे भी पढ़ें -

    टिप्पणियाँ

    संपर्क फ़ॉर्म

    भेजें